नई दिल्ली

जाने आर्मी कैंटीन में क्यों मिलता है सस्ता सामान, वजह जान हो जाएंगे हैरान

नई दिल्ली :- हमारे देश के जवान हर समय बॉर्डर पर खडे़ रहकर देश की रक्षा करते हैं. उन्ही की वजह से हम हमारे घरों में सुरक्षित महसूस कर पाते हैं. देश के वीर जवानों का बलिदान सराहनीय है ऐसे में सरकार की तरफ से भी हमारे देश की सरकार देश के वीर जवानों को कई ऐसी सुविधा दी जाती है.

Join WhatsApp Group Join Now
Join Telegram Group Join Now
Kargil Vijay Diwas
Kargil Vijay Diwas

आर्मी कैंटीन में मिलता है काफी सस्ता सामान

इन्ही सुविधाओं में से आपने आर्मी कैंटीन की सुविधा के बारे में पता होगा. आपने सुना होगा कि मार्केट में मिलने वाले सामान के मुकाबले यहां काफी कम रेट पर कोई भी सामान मिल जाता है. आप चाहें तो यहां से कार व बाइक भी खरीद सकते हैं, जिसमें आपको अच्छा खासा डिस्काउंट मिल जाता है. पर सवाल यह है कि आखिर आर्मी कैंटीन में मिलने वाला सामान कितना सस्ता है और क्या एक आम आदमी भी यहां से सामान खरीद सकता है.  आज हम इस बारे में विस्तार से बात कर रहें है.

   

खरीद सकते हैं कोई भी सामान

जिसे आर्मी कैंटीन कहा जाता हैं, उन्हें वास्तविक में कैंटीन स्टोर्स डिपार्टमेंट (Canteen Stores Department) कहा जाता है. यहां पर भारतीय सेना के जवानों व उनके परिवार वालों के लिए बहुत ही सस्ते दामों पर सामान मौजूद होता है. आर्मी कैंटीन में आप ग्रोसरी आइटम, किचन अप्लायंस, इलेक्ट्रॉनिक आइटम, ऑटोमोबाइल और यहां तक कि शराब भी खरीद सकते हैं. यहां पर कई विदेशी आइटम भी मिलते हैं. पूरे देश में लेह से लेकर अंडमान एंड निकोबार तक आर्मी कैंटीन के कुल 33 डिपो हैं और 3700 के आसपास यूनिट रन कैंटीन्स हैं.

आखिर क्यों मिलता है यहां पर सस्ता सामान

अब अगर यह बात करें कि यहां पर आखिर सामान इतना सस्ता क्यों मिलता है तो आपको बता दें कि यहां पर मिलने वाले सामानों पर सेना को जवानों से हर एक आइटम पर सिर्फ 50 प्रतिशत टैक्स ही लिया जाता है. मान लीजिए कि आपको कोई सामान लेने पर 18% टैक्स देना पड़ता है, तो आर्मी कैंटीन में आपको वह आईटम 9% टैक्स के साथ ही मिल जाएगा. यहां पर मिलने वाले सामानों पर सिर्फ 50 प्रतिशत टैक्स लगने के कारण ही यहां सामान मार्केट के अपेक्षा सस्ते मिलते हैं.

कैंटीन कार्ड से कोई भी व्यक्ति खरीद सकता है सामान

आर्मी कैंटीन से कार्ड से कोई भी व्यक्ति कितना भी सामान खरीद सकता था. ऐसे में आर्मी बैग्राउंड वाले लोगों के रिश्तेदार व दोस्त भी यहां सामान खरीद सकते हैं. इसी को देखते हुए कैंटीन में मिलने वाले समानों पर लिमिट लगाई गई है . जिसके बाद एक व्यक्ति हर महीने एक लिमिट में ही सामान खरीद पाता है.

Author Deepika Bhardwaj

नमस्कार मेरा नाम दीपिका भारद्वाज है. मैं 2022 से खबरी एक्सप्रेस पर कंटेंट राइटर के रूप में काम कर रही हूं. मैंने कॉमर्स में मास्टर डिग्री की है. मेरा उद्देश्य है कि हरियाणा की प्रत्येक न्यूज़ आप लोगों तक जल्द से जल्द पहुंच जाए. मैं हमेशा प्रयास करती हूं कि खबर को सरल शब्दों में लिखूँ ताकि पाठकों को इसे समझने में कोई भी परेशानी न हो और उन्हें पूरी जानकारी प्राप्त हो. विशेषकर मैं जॉब से संबंधित खबरें आप लोगों तक पहुंचाती हूँ जिससे रोजगार के अवसर प्राप्त होते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button

Adblock Detected

कृपया इस वेबसाइट का उपयोग करने के लिए आपके ऐड ब्लॉकर को बंद करे