नई दिल्ली

भारत के पांच बड़े सूर्य मंदिरों में आता है ये चमत्कारी मंदिर, भगवान श्रीराम में भी यही किया था विश्राम

मोहम्मदाबाद मऊ :- भारत में विभिन्न धर्मो के लोग रहते हैं, सबसे ज्यादा भारत में हिंदू धर्म के लोग रहते हैं. हिंदू धर्म में भी लोग कई देवी देवताओं की पूजा अर्चना करते हैं. जिनका सबूत हमारे देश में स्थापित मंदिरों और उनके पीछे की कहानियों में छिपा हुआ है. आज हम आपको एक ऐसा Temple बताने जा रहे हैं जिसकी प्राचीन मान्यता है और लोग दूर-दूर से पूजा के लिए आते हैं. इतना ही नहीं छठ पूजा के अवसर पर इस मंदिर की मेहता ओर ज्यादा बढ़ जाती है. इतना ही नहीं यह Temple देश के 5 बड़े सूर्य मंदिरों में से एक है.

Join WhatsApp Group Join Now
Join Telegram Group Join Now

surya mandir

लाखों लोग आते हैं पूजा के लिए 

इस मंदिर में लाखों लोग दर्शन के लिए आते हैं इतना ही नहीं इस Temple के प्रांगण में एक कुंड भी स्थित है, जिसमें स्नान करने से लोगों की काफी बीमारियां ठीक हो जाती हैं. ब्लार्क Temple जनपद मुख्यालय से 30Km दूर मोहम्मदाबाद तहसील में देवलास गांव में है. इस मंदिर में श्रद्धालुओं की हर मनोकामना पूरी होती है. मंदिर के पुजारी शंभू नाथ मिश्रा ने बताया कि यह Temple राजा दशरथ ने बनवाया था और यह मंदिर देवलास में स्थित है क्योंकि यहां पर देवल नामक ऋषि ने घोर जप तप किए थे. इस मंदिर में छठ पूजा के दौरान पूरे 1 महीने तक मेला लगता है.

छठ पूजा पर की जाती है सूर्य देवता की पूजा 

प्राचीन मान्यतानुसार छठ पूजा के दौरान इस मंदिर में सूर्य देवता की पूजा अर्चना की जाती है. मान्यता है कि देवल मुनि ब्रह्मा के पुत्र दक्ष प्रजापति के पुत्र थे. देवल ऋषि ने यहां पर कठोर जप तप किए थे. वही त्रेता युग में अयोध्या के महाराज दशरथ के राज्य के साथ इसकी पूर्वी सीमा भी लगती है. इसके अलावा मान्यता है कि  अपने वनवास के दौरान पहले दिन भगवान श्रीराम यहीं पर रुके थे और सूर्य भगवान आराधना की थी.

वाल्मीकि रचित रामायण से मिलता है सबूत 

प्राचीन जन श्रुतियों के अनुसार इस स्थान को पांडव युगीन भी कहा जाता है. भगवान श्रीराम के यहां ठहरने का प्रमाण वाल्मीकि द्वारा रचित रामायण से भी मिलता है. समाजसेवी संतोष सिंह ने बताया कि इस Temple को अयोध्या का पूर्वी गेट भी कहा जाता है. यहीं से पहला स्नान और मेला शुरू होता है. छठ पूजा के दौरान यहां पर श्रद्धालु स्नान करने के बाद ही पूजा पाठ करते हैं. इतना ही नहीं इस मंदिर के 2 किलोमीटर की दूरी तक कोई भी मांसाहारी चीजे जा धर्म भ्रष्ट करने वाली चीजें जैसे मांस, अंडा और शराब की दुकान नहीं है.

Mukesh Kumar

हेलो दोस्तों मेरा नाम मुकेश कुमार है मैं खबरी एक्सप्रेस पर बतौर कंटेंट राइटर के रूप में जुड़ा हूँ मेरा लक्ष्य आप सभी को हरियाणा व अन्य क्षेत्रों से जुडी खबर सबसे पहले पहुंचना है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button

Adblock Detected

कृपया इस वेबसाइट का उपयोग करने के लिए आपके ऐड ब्लॉकर को बंद करे